दिल्ली पुलिस ने सालाना प्रेस कॉन्फ्रेंस में पेश किया अपना लेखाजोखा

57
Delhi Police

दिल्ली पुलिस की सालाना प्रेस कॉन्फ्रेंस 

नई दिल्ली, 09 जनवरी (वेबवार्ता)। दिल्ली पुलिस के लिए बुधवार का दिन सालाना प्रेस कॉन्फ्रेंस का रहा। दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने साल 2018 को लेकर अपने कामों का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया। दिल्ली पुलिस ने बताया कि आज के दिन ही हम अपने काम का ब्‍योरा दिखाते हैं। हमने क्‍या उपलब्‍धि हासिल की है? और क्‍या हम अगले साल का लक्ष्‍य बना कर हासिल करने वाले हैं?

  • Delhi Police

पुलिस का दावा- गंभीर अपराध में गिरावट आई है

अपनी उपलब्‍धियों के बारे में बताते हुए दिल्‍ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक ने कहा कि 2018 में गंभीर अपराध की संख्‍या कम हुई है। महिलाओं की सेफ्टी हमारी लिए सर्वोच्‍च प्राथमिकता है। पुलिस का दावा है कि गंभीर अपराध में गिरावट आई है। महिलाओं के खिलाफ अपराध में भी कमी दिखाई गई है। पुलिस ने कहा कि हम क्षेत्र में लगातार काम कर रहे हैं। इसके अलावा दिल्ली पुलिस ने सालाना प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि 81 पुलिसकर्मियों को समय से पहले पदोन्नति मिली है, इसके अलावा इस साल 72 को असाधारण कार्य पुरस्कार दिए गए हैं।

दिल्ली में सड़क दुर्घटनाएं बढ़ीं हैं

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पुलिस ने कहा कि दिल्ली में सड़क दुर्घटनाएं बढ़ीं हैं, लेकिन इन दुर्घटनाओं में पहले से कम लोगों की जान गई है। दिल्ली पुलिस ने बताया कि हमने 2018 में सिम्मी के 2 आतंकी सहित कुल 11 आतंकी को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा इस साल दिल्ली पुलिस ने यातायात नियमों के उल्लंघन पर चालान से 105 करोड़ रुपये जुटाए हैं।

Delhi Police

24 जगहों पर 20 करोड़ की लागत से लाल बत्ती पर कैमरे लगाएगी दिल्ली पुलिस

अगले साल के लक्ष्य को बताते हुए दिल्ली पुलिस ने कहा कि साल 2019 में 24 जगहों पर 20 करोड़ की लागत से लाल बत्ती पर कैमरे लगाए जाएंगे। इसके अलावा 100 जगहों पर गति पकड़ने वाली मशीनें भी लगाई जाएंगी। आपको बता दें, साला प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पुलिस ने बताया कि दिल्ली में वाहन चोरी के मामले बढ़े हैं, लेकिन पुलिस ने गत वर्ष के मुकाबले ज्यादा वाहन चोर भी पकड़े।

इसके अलावा झपटमारी,चोरी, सेंधमारी जैसे अपराधों में भी कमी दिखाई गई। गंभीर अपराधों में करीब 12 प्रतिशत की कमी बताई गई। हालांकि इन अपराधों के पीछे की बड़ी वजह वाले अवैध हथियारों के प्रयोग में करीब साढ़े 11 प्रतिशत की कमी आई लेकिन इस बार दिल्ली में 1905 अवैध हथियार बरामद हुए जो 2017 में 1381 थे। दिल्ली पुलिस का दावा है कि उसने बीते साल 168 इनामी अपराधियों को गिरफ्तार कर अपराध पर लगाम लगाने की कोशिश की है। आंकड़ों के हिसाब से दिल्ली में अपराध साल 2017 की तुलना में बीते साल 6 प्रतिशत ज्यादा हुए। साल 2017 में 223077 केस दर्ज हुए तो बीते साल 236476 मामले दर्ज किए गए। हालांकि आंकड़ों को पेश कर दावा किया गया कि जो गंभीर अपराध हैं उनमें कमी आई है।

दिल्ली में अपराध साल 2017 में डकैती के 36 जबकि 2018 में 23 मामले दर्ज हुए

आंकड़ों के हिसाब से दिल्ली में अपराध साल 2017 में डकैती के 36 जबकि 2018 में 23 मामले दर्ज हुए। साल 2017 में हत्या के 462 जबकि 2018 में बढ़कर 447 मामले सामने आए। हत्या की कोशिश के 2017 में 615 जबकि बीते साल 515 केस दर्ज हुए। 2017 में फिरौती के 14 जबकि 2018 में बढ़कर 19 मामले सामने आए। महिलाओं के खिलाफ अपराध जैसे रेप के 2107 में 2059 जबकि 2018 में मामूली कमी के साथ 2043 केस दर्ज हुए। छेड़खानी में भी मामूली कमी के साथ 2018 में 3175 केस दर्ज हुए। जबकि 2017 में ये आंकड़ा 3275 था।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here