एएफसी एशियन कप : यूएई को हराकर इतिहास रचना चाहेगी भारतीय टीम (प्रीव्यू)

36
AFC Asian Cup

अबू धाबी, 09 जनवरी (वेबवार्ता)। एएफसी एशियन कप के पहले मैच में थाईलैंड के खिलाफ 4-1 से धमाकेदार जीत दर्ज करने वाली भारतीय फुटबाल टीम गुरुवार को यहां जायेद स्पोर्ट्स सिटी में मेजबान संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) को हराकर पहली बार इस टूर्नामेंट के नॉकआट स्तर में पहुंचना चाहेगी। थाईलैंड के खिलाफ मिली बड़ी जीत से भारत तीन अंक प्राप्त हुए और वह अब अपने ग्रुप में टॉप पर है। भारतीय टीम का गोल अंतर भी बेहतर है जो ग्रुप स्तर पर महत्वपूर्ण साबित होगा क्योंकि यूएई ने अपने पहले मैच में बहतरीन के साथ 1-1 से ड्रॉ खेला था। कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन इस बात को लेकर खुश होंगे कि उनके खिलाड़ियों ने थाईलैंड के खिलाफ दूसरे हाफ में बेहतरीन खेल दिखाया। पहला हाफ 1-1 की बराबरी पर समाप्त होने के बाद भारत ने न सिर्फ मजबूत थाई डिफेंस को तोड़ने में सफलता हासिल की बल्कि उसने कई बेहतरीन गोल करते हुए इस मैच को अपने लिए यादगार बना दिया।

कांस्टेनटाइन ने कहा, `हमारी टीम काफी युवा है और इस कारण वह काफी रोमांचित है। मेजबान टीम के साथ होने वाला मैच काफी अलग होगा क्योंकि यह टीम काफी मजबूत है लेकिन मेरे लड़कों के लिए यूएई उनके रास्ते में खड़ी सिर्फ एक अन्य टीम है। भारत ने अपने फारवर्ड खिलाड़ियों के शानदार खेल की बदौलत थाईलैंड के खिलाफ जीत हासिल की। सुनील छेत्री ने दो गोल और जेजे लालपेखलुवा ने एक गोल किया जबकि मिडफील्डर अनिरुद्ध थापा भी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपना पहला गोल करने में सफल रहे। आशिक कुरुनियन इस मैच में कोई गोल नहीं कर सके लेकिन उन्होंने अपने शानदार खेल से सबका ध्यान खींचा। छेत्री और एफसी पुणे सिटी के विंगर कुरुनियन ने थाईलैंड की रक्षापंक्ति को हमेशा व्यस्त रखा। कुरुनियन से यूएई के खिलाफ भी इसी तरह के चमकदार खेल की उम्मीद है।

यूएई फीफा रैंकिंग में 79वें स्थान पर है और भारत से काफी बेहतर स्थिति में है। ग्रुप-ए में वह सबसे ऊंची रैंकिंग वाला टीम है और यह भारत के लिए एक चिंता की बात है। एक मजबूत टीम के खिलाफ मिडफील्ड में थापा और प्रणॉय हल्धर को अच्छा खेल दिखाना होगा। भारत को पीछे की पंक्ति में भी काफी सावधान रहना होगा क्योंकि 2015 में एशियन प्लेअर ऑफ द इअर चुने गए अहमद खलील और अली मबखाउत जैसे खिलाड़ी उसके लिए मुश्किलें पैदा कर सकते हैं। ये खिलाड़ी गोल करने में माहिर हैं। मबखाउत को यूएई के लिए सबसे अधिक गोल करने वाला खिलाड़ी बनने के लिए सात गोलों की जरूरत है। ऐसे में संदेश झिंगन और अनस इडाथोडिका को बैकलाइन में काफी सतर्क रहना होगा।

यूएई घरेलू दर्शकों के सामने पहले मैच में पूरे तीन अंक हासिल न कर पाने के कारण घायल दिख रही है और उनके कोच ने भी माना कि भारत के खिलाफ वे बदली हुई मानसिकता के साथ उतरेगी। यूएई के कोच अल्बटरे जाचेरोनी ने कहा, `हमारे खिलाड़ी पहले मैच में अपनी संघर्षशक्ति नहीं दिखा सके थे। हम भारत के खिलाफ यह गलती नहीं करेंगे। हम बदली हुई मानसिकता के साथ मैदान पर उतरेंगे।`यूएई की टीम को चोटिल ओमर अब्दुलरहमान की कमी खलेगी। ओमर को एशिया के सबसे अच्छे खिलाड़ियों में से एक माना जाता है लेकिन जाचेरोनी की टीम को पास ओमर के बगैर भी काफी शक्ति और काबिलियत है और इस कारण गोलपोस्ट के सामने गुरप्रीत सिंह संधू को काफी सावधान रहने की जरूरत होगी।
भारतीय टीम :
गोलकीपर : गुरप्रीत सिंह संधू, अमरिंदर सिंह, विशाल कैथ।
डिफेंडर : प्रीतम कोटाल, संदेश झिंगन, अनस एदाथोडिका, सलाम रंजन सिंह, सार्थक गोलुई, सुभाशीष बोस और नारायण दास।
मिडफील्डर : उदांता सिंह, जैकीचंद सिंह, प्रणॉय हल्दर, अनिरुद्ध थापा, विनीत राय, रॉलिगं बोर्गेस, जर्मनप्रीत सिंह, अशिक कुरुनियान, हालीचरण नारजारे।
फारवर्ड : सुनील छेत्री, जेजे लालपेखलुआ, बलवंत सिंह, सुमित पस्सी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here