लक्जरी कारों और फ्लैट समेत उपेंद्र राय की 26.65 करोड़ रुपए की संपत्ति कुर्क

51

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय ने बुधवार को बताया कि धन शोधन और कथित जबरन वसूली के मामले में पत्रकार उपेंद्र राय और उनके परिवार की लक्जरी कारों और फ्लैटों सहित 26.65 करोड़ रुपए मूल्य की संपत्ति कुर्क की गई है।

केंद्रीय जांच एजेंसी ने बताया कि कुर्क की गई संपत्ति में ऑडी और मर्सिडीज जैसी महंगी कारें, राष्ट्रीय राजधानी के पॉश ग्रेटर कैलाश-1 इलाके में आवासीय परिसर, कनॉट प्लेस के पास हेली रोड पर ऐसी ही एक अन्य संपत्ति, लखनऊ में पेंट हाउस और नोएडा के जलवायु विहार में एक फ्लैट शामिल है।

इसके अलावा 5.62 करोड़ रुपए कीमत के म्यूचुअल फंड सहित बैंक में जमा राशि भी कुर्क की गई है। राय और अन्य लोगों के खिलाफ पीएमएलए के तहत संपत्ति कुर्क करने के अनंतिम आदेश जारी किए गए थे। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कुर्क की गई पूरी संपत्ति का मूल्य 26.65 करोड़ रुपए है।

प्रवर्तन निदेशालय ने राय को आठ जून को धन शोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत तिहाड़ जेल से उस समय गिरफ्तार था जब उन्हें कुछ देर पहले ही कथित जबरन वसूली और संदिग्ध वित्तीय लेनदेन से जुड़े सीबीआई के एक मामले में जमानत मिली थी।

ईडी ने बताया कि राय विभिन्न कंपनियों और कॉरपोरेट हाउसों से भारी मात्रा में धन उगाही में लिप्त पाए गए। एजेंसी ने कहा कि अनुमान के मुताबिक राय 29,58,09,570 रुपए जमा करने और इसे काले धन से सफ़ेद में बदलने के अपराध में शामिल रहा है।

दरअसल इससे पहले राय को सीबीआई ने 3 मई को संदिग्ध वित्तीय लेनदेन करने, गलत जानकारियां मुहैया कराके नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो द्बारा बनाए गए हवाईअड्डा पर आने जाने के पास को हासिल करने और मुंबई के एक कारोबारी के खिलाफ आयकर विभाग के एक मामले में छेड़छाड़ करने तथा कथित उगाही के मामले में गिरफ्तार किया था।

सीबीआई द्बारा दायर प्राथमिकी के आधार पर प्रवर्तन निदेशालय ने राय के खिलाफ धन शोधन का मामला दर्ज किया। सीबीआई ने अपनी प्राथमिकी में आरोप लगाया है कि 2017 में राय के खाते में हर बार एक लाख से ज्यादा के लेनदेन हुए हैं और राय के खाते में 79 करोड़ रुपए आए जिनमें से इस दौरान 78.51 लाख रुपए निकाल लिए गए।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here