गूगल ने बनाया टायरस वॉन्ग का डूडल, जानें- कौन हैं ये शख्सियत

72
Tyrus Wong
Pic Credit Google

Google गुरुवार को चीनी-अमेरिकी आर्टिस्ट टायरस वॉन्ग का 108 वां जन्मदिन मना रहा है। Google ने वॉन्ग को एक रंगीन डूडल समर्पित किया है। चीन के गुआंडोंग प्रांत में 25 अक्टूबर 1910 को वॉन्ग का जन्मदिन हुआ था। वह मूल रूप से चीन के हैं, लेकिन कुछ समय बाद अपने पिता के साथ अमेरिका आ गए।

अमेरिका पहुंचने पर, चीनी अपवर्जन अधिनियम के कारण उन्हें प्रवेश नहीं दिया गया। अंत में वह लॉस एंजिल्स में बस गए जहां उन्होंने स्कूल जाना शुरू किया। उनके भीतर के बसे कलाकार को तब मौका मिला जब वॉन्ग को ओटिस आर्ट इंस्टीट्यूट में छात्रवृत्ति मिली। वॉन्ग एक प्रतिभाशाली एनिमेटर, कॉलिग्राफर, सेट डिजाइनर और एक म्यूरलिस्ट थे।

उन्होंने वार्नर ब्रदर्स स्टूडियो में 26 वर्षों तक सहायक के रूप में काम किया। हालांकि, चीनी अपवर्जन अधिनियम और नस्लवाद के प्रभाव ने पूरे करियर में उनका पीछा नहीं छोड़ा। बाद के वर्षों में वॉन्ग, प्रतिभाशाली ग्रीटिंग कार्ड डिजाइनर और पतंग निर्माता बन गए।

Tyrus Wong
Pic Credit Google

साल 1932 में शिकागो में उनके काम के लिए एग्जीबिशन हुआ था। जहां उनकी बनाई हुई एक से बढ़कर एक पेंटिग्स दिखाई गई थी। लोगों ने उनकी पेंटिग्स की खूब तारीफ की.. वो देखते ही देखते ही लोगों के बीच पॉपुलर होने लगे। बता दें, जहां उनकी आर्ट दिखाई जा रही थी वहां पिकासो, मेटिसी और पॉल ली जैसे दिग्गजों की पेंटिग्स लगी थी।

टायरस वॉग का हॉलिवुड में काफी अच्छा करियर रहा। जहां उन्होंने डिज्नी और वॉर्नर ब्रदर्स जैसे कई प्रोडक्शन हाउस के साथ काम किया। साल 1942 में आई डिज्नी की मशहूर फिल्म ‘बाम्बी’ में वो प्रमुख प्रोडक्शन इलस्ट्रेटर थे। जिसके लिए वह काफी पॉपुलर हुए थे। बता दें, 90 साल की उम्र तक उन्होंने पेंटिग्स की थी।
साल 2001 में वॉन्ग के उत्कृष्ट योगदान और डिजनी के साथ उनके काम के लिए उन्हें डिजनी लीजेंड का सम्मान दिया गया था। साल 2015 में, सैन डिएगो एशियाई फिल्म फेस्टिवल में उन्हें लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड दिया गया। उसी साल फिल्म निर्माता पामेला टॉम ने टायरस वॉन्ग के जीवन के बारे में एक फिल्म लिखी और टायरस नामक एक फिल्म निर्देशित की। साल 2016 में 106 वर्ष की आयु में उनकी मृत्यु हो गई।

Google ने वॉन्ग को समर्पित डूडल के साथ वीडियो भी अपलोड किया है। इसमें टायरस के बचपन से लेकर बुढ़ापे तक की किएटीविटी का जिक्र है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here