म्यूचुअल फंड कंपनियों की प्रबंधन अधीन परिसंपत्तियां सितंबर तक 12.5 प्रतिशत घटीं

105
credit google
credit google

नई दिल्ली, 09 अक्टूबर (वेबवार्ता)। म्यूचुअल फंड कंपनियों के प्रबंधन अधीन परिसंपत्तियां सितंबर अंत तक 12.5 प्रतिशत घटकर 22 लाख करोड़ रुपए रह गई। इसकी अहम वजह लिक्विड फंड और आय योजनाओं से भारी मात्रा में निकासी होना है।

हालांकि, इस दौरान इक्विटी और इक्विटी से जुड़ी बचत योजनाओं में पूंजी प्रवाह बढ़ा है। म्यूचुअल फंड कंपनियों के संगठन एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एएमएफआई) के आंकड़ों के अनुसार क्षेत्र की 41 सक्रिय कंपनियों की प्रबंधनाधीन परिसंपत्तियां सितंबर अंत तक 22.06 लाख करोड़ रुपए रह गईं।

जबकि अगस्त अंत तक यह आंकड़ा 25.20 लाख करोड़ रुपए था। मासिक आधार पर प्रबंधन अधीन परिसंपत्तियों में आयी इस कमी की मुख्य वजह म्यूचुअल फंड योजनाओं से 2.3 लाख करोड़ रुपए की निकासी होना है। इसमें 2.11 लाख करोड़ रुपए लिक्विड फंड से निकाले गए।

इसके अलावा निश्चित आय देने वाले ऋण म्यूचुअल फंड से 32,504 करोड़ रुपए की निकासी हुई। स्वर्ण एक्सचेंज ट्रेड फंड से भी 33 करोड़ रुपए की निकासी हुई है। हालांकि, इसी अवधि में इक्वटी और इक्विटी से जुड़ी बचत जमा योजनाओं में 11,250 करोड़ रुपए का निवेश आया है। जबकि बैलेंस्ड फंड योजनाओं में भी 731 करोड़ रुपए का निवेश आया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here