‘राष्ट्रीय फ्रीक्वेंसी आवंटन से मोबाइल ब्रॉडबैंड की पहुंच बढ़ेगी’

30
india-mobile-congress

नई दिल्ली, 06 नवम्बर (वेबवार्ता)। हाल ही में यहां हुए इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2018 में राष्ट्रीय फ्रीक्वेंसी आवंटन योजना (एनएफएपी) की घोषणा की गई।

विभिन्न प्रयोक्ताओं और सेवाओं द्वारा देश में सभी स्पेक्ट्रम बैंडों के उपयोग की सूची बनाने वाली इस योजना से भारतीय डिजिटल संचार उद्योग के विकास के लिए एक आवश्यक रोडमैप मिलने की उम्मीद है।

दुनिया के हरेक देश ने एनएफएपी बनाई है, जिसका लक्ष्य दुनिया में स्पेक्ट्रम को उपयोग को सुसंगत बनाना है। एनएफएपी ने आईएमटी (अंतर्राष्ट्रीय मोबाइल दूरसंचार) के लिए समर्पित स्पेक्ट्रम की पहचान की है, जोकि महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे 5जी जैसी प्रौद्योगिकीयों में स्पेक्ट्रम के प्रयोग की अनुमति देगा।

पेट्रोल, डीजल के दाम फिर घटे, कच्चे तेल के भाव नरम

स्पेक्ट्रम की पहचान के बाद 5जी के लिए इसकी नीलामी की जा सकेगी और देश में जल्द से जल्द 5जी सेवा शुरू हो सकेगी। इसके अलावा इससे एम2एम जैसी प्रौद्योगिकीयों को भी बढ़ावा मिलेगा।

सीओएआई के महानिदेशक राजन एस. मैथ्यूज ने कहा, ‘देशों के लिए स्पेक्ट्रम के प्रयोग को सुसंगत बनाना जरूरी है, ताकि उपकरणों के उत्पादन और बाधारहित रोमिंग के मामले अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देगा। यह किफायती दरों पर ‘सभी के लिए ब्रॉडबैंड’ के राष्ट्रीय लक्ष्य को पूरा करने में मदद करेगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here