शाह बोले-संतों के साथ मिलकर बनवाएंगे राम मंदिर

18
amit shaah

नई दिल्ली, 03 फरवरी (वेबवार्ता)। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और पार्टी के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह ने रविवार को ‘‘भारत के मन की बात, मोदी के साथ’’ अभियान की शुरुआत की। एक महीने तक चलने वाले इस अभियान में पार्टी को उसका ‘संकल्प पत्र’ (घोषणापत्र) तैयार करने में मदद करने के लिए देशभर से 10 करोड़ लोगों के सुझाव मांगे जाएंगे। शाह ने कहा कि इस अभियान का उद्देश्य घोषणापत्र तैयार करने की प्रक्रिया का लोकतंत्रीकरण करना है और इस ‘‘अनूठे प्रयोग’’ से लोकतंत्र मजबूत होगा। शाह ने यहां एक कार्यक्रम में पत्रकारों से कहा कि लोग किस तरह का देश चाहते हैं और इसे हासिल करने के लिए उनके क्या सुझाव हैं, इस अभियान में उनके विचार जानने के लिए उन तक पहुंचा जाएगा।

उन्होंने बताया कि इससे पार्टी को नए भारत का सपना साकार करने में मदद मिलेगी। इस मौके पर राम मंदिर मामले पर बोलते हुए शाह ने कहा कि कोर्ट के अंदर लंबी बहस है, फिर भी 1993 में जो जमीन को अधिगृहित किया गया, उस भूमि को सरकार ने राम जन्मभूमि न्यास को वापिस देने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि मेरा विपक्षी दलों से अनुरोध है कि इसमें बाधा न बने बल्कि सहयोग करें। शाह ने कहा कि राम मंदिर निर्माण पर हम साधु-संतों के साथ है और अयोध्या में भव्य राम मंदिर जरूर बनाएंगे

बिहार : सीमांचल एक्सप्रेस पटरी से उतरी, 7 मरे, जांच के आदेश

 2014 के पहले देश की क्या स्थिति थी और 2014 के बाद क्या स्थिति है, यह सबने देखा। 30 साल तक गठबंधन सरकार का दौर रहा लेकिन 2014 में जनता ने भाजपा पर अपना विश्वास दिखाया और हम पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में आए।

भाजपा और अन्य दलों के बीच बहुत अंतर है। भाजपा लोकतंत्र की पार्टी है, इसमें कोई परिवारवाद नहीं है। पहले की सरकार ने सिर्फ चुनावी वादे किए और एक परिवार के बारे में सोचा लेकिन हमने गरीबों तक बजट का फायदा पहुंचाया है।

amit_shah

मोदी सरकार ने 50 करोड़ लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने के लिए निर्णायक एवं कठोर कदम उठाए हैं। किसानों की समस्याओं को दूर करने और सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए अनेक निर्णय लिए गए हैं। गरीबों के लिए उज्जवला योजना और स्वास्थ्य बीमा जैसी योजनाओं को लागू किया गया है जो देश की आजादी की लड़ाई के उद्देश्यों को पूरा करता है।

भाजपा और दूसरी पार्टियों में अंतर है। भाजपा में आंतरिक लोकतंत्र मजबूत है जिससे देश मजबूत होता है जबकि दूसरी पार्टियों में परिवारवाद और जातिवाद है, जो देश का समावेशी विकास नहीं कर सकता है। भाजपा विचारधारा की पार्टी है और यह नीति एवं आदर्शों पर चलती है। यह वोटबैंक की राजनीति के बजाय जनमत निर्माण में विश्वास करती है

भाजपा की रथयात्र

भाजपा 300 रथों के माध्यम से पूरे देश में जनसंपर्क कर लोगों की राय जानने का प्रयास करेगी। यह रथयात्रा एक माह तक चलेगी, जिसके माध्यम से मुख्य रूप से 12 श्रेणी में लोगों के सुझाव मांगे जाएंगे।ये सुझाव लिखित, टेलीफोन, फेसबुक और संचार के कुछ अन्य माध्यमों से दिए जा सकते हैं। भाजपा लोकतंत्र के इस महोत्सव से पहले हर व्यक्ति के पास जाना चाहती है और जनमत बनाकर जनादेश प्राप्त करना चाहती है जिससे लोकतंत्र मजबूत हो सके। भाजपा लोगों से यह जानना चाहती है कि वह कैसा ‘न्यू इंडिया ’चाहते हैं, उनकी अपेक्षायें क्या है। सरकार 100 खरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए बुनियादी ढांचे को मजबूत करने का प्रयास कर रही है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here