चीन की सीमा पर एक और पुल बनकर तैयार, 25 दिसंबर को पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन

57
modi

कोलकाता, 15 दिसंबर (वेबवार्ता)। अरुणाचल में चीन की सीमा के पास भारत ने एक और पुल खडा कर दिया है। इस पुल का उद्घाटन खुद प्रधानमंत्री 25 दिसंबर को करेंगे। चीन से सटे सीमा पर भारत के द्वारा बनाया गया यह पुल दरअसल रेल-रोड़ ब्रिज है।

आपको बता दें कि 25 दिसंबर को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई का जन्म दिन और इसी दिन को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इस पुल का उद्घाटन करेंगे।

इस ब्रिज का निर्माण अरुणाचल प्रदेश में ब्रह्मपुत्र नदी पर किया गया है। इस पुल की आधारशिला 1997 में तत्कालीन प्रधानमंत्री एचडी देवेगोड़ा ने की थी। हालांकि, इसके निर्माण कार्य की नींव 2002 में तत्कालीन प्रधानमंत्री वाजपेयी ने रखी थी।

इस ब्रिज का नाम बोगीबील ब्रिज है। यह 4.98 किमी लंबा ब्रिज न केवल अरुणाचल प्रदेश और असम के लोगों के बीच की दूरी को कम करेगा, बल्कि अरुणाचल प्रदेश में भारत-चीन सीमा पर सैनिकों और ट्रांसपोर्ट में तेजी के साथ सुविधा प्रदान करने का भी काम करेगा।

राफेल पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला सरकार की गलत जानकारी पर आधारित : राहुल गांधी
ब्रह्मपुत्र नदी को आर-पार करता हुआ यह ब्रिज असम के डिब्रुगढ़़ शहर और धेमाजी को जोड़ेगा। यह ब्रिज असम-अरुणाचल प्रदेश सीमा से 20 किमी दूर स्थित है, इसलिए असम और अरुणाचल प्रदेश के पहाड़ी इलाकों में रहने वाले लगभग पांच लाख लोगों को कनेक्टिविटी प्रदान करेगा।
नॉर्थईस्ट फ्रंटियर (एनएफ) रेलवे बोगीबील के चीफ इंजीनियर महेंद्र सिंह ने कहा कि इस ब्रिज का 99 प्रतिशत कंस्ट्रक्शन पूरा हो चुका है और अब इसको फाइनल फिनिश देना बाकि रह गया है, जिसे 20 दिसंबर से पहले कर दिया जाएगा।
बोगीबील ब्रिज बहुत ही मजबूत है, जिस पर सेना के बड़े टैंक भी गुजर सकेंगे। इस ब्रिज में न सिर्फ हाई क्वालिटी का कॉपर और स्टील इस्तेमाल किया गया है, बल्कि गार्डर टेक्नॉलोजी से बनाया गया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here