मुसलमान कुरआन से दूर हो गए हैं: इंद्रेश कुमार

19

नई दिल्ली, 02 फरवरी (वेबवार्ता)। राष्ट्रीय मुस्लिम मंच का मुस्लिम बुद्धिजीवी सम्मलेन एनडीएमसी के सभागार में आयोजित किया गया। इस में पूरे भारत से अलग-अलग राज्यों से मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रभारी, कनविनर और भारतीय जनता पार्टी के अल्पसंख्यक मोर्चा के जिम्मेदार लोगों ने शिरकत की।

इस सभा के मुख्य अतिथि मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष इंद्रेश कुमार रहे। इस मौके से नेशनल कॉउंसिल प्रमोशन ऑफ उर्दू लैंग्वेज के डायरेक्टर डॉ शेख अकील अहमद और संस्था के चेयरमैन डॉ. शाहिद अहमद, मंच के राष्ट्रीय संयोजक अफजल अहमद उपस्थित थे। सभा की मुख्य बात थी इंद्रेश कुमार कहा कि मुसलमानों में तीन तलाक का मसला है जिसको समझने में मौजूदा सरकार और प्रधानमंत्री मोदी के सामने यह बात रखी कि हमारी मुस्लिम महिलाओं की पीड़ा हो रही है उससे छुटकारा दिलाया जाए।

इंद्रेश कुमार ने कहा के सरकार को तीन तलाक का अध्यादेश लाने की जरूरत क्यों पड़ी जबकि इस्लाम में कुरान शरीफ में बहुत खुलकर के साफ-साफ मुस्लिम महिलाओं के हित में बात कही है जिसमें यह कहीं नहीं दर्शाता कि तीन तलाक दिया जाए बल्कि अगर मुसलमान और हमारे इस्लाम के मानने वाले भाई कुरान को समझें और अमल करें तो तलाक का मसला पैदा ही नहीं होगा।
बाबरी मस्जिद और अयोध्या के मसले पर भी इंद्रेश कुमार ने बहुत खुलकर बातें रखी उन्होंने कहा कि जिस तरह से हमारा हिंदू भाई मक्का के मसले पर और क्रिश्चियन के और दूसरे पवित्र स्थानों के लिए आस्था रखते है उसी इसी तरह हमारे मुस्लिम भाइयों को भी अयोध्या के मुद्दे को ज्यादा नहीं उठाना चाहिए। उनको मान लेना चाहिए कि वहां राम मंदिर था और मंदिर ही बनाया जाए। यह हम तमाम लोगों से इसकी आशा करते हैं। इस मौके से उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को आप लोग दोबारा लाएं ताकि देश के सुधार में योगदान बना रहे। क्योंकि आपके सामने एक मजबूत सरकार की मिसाल है। जो प्रधानमंत्री ने आप सब को न सिर्फ महसूस कराया है बल्कि आप अपनी आंखों से देख भी सकते हैं कि कांग्रेस में और भारतीय जनता पार्टी में क्या अंतर है। यह काम में विश्वास रखती है न कि हिन्दू मुसलमान को लड़ाने में।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here