चिटफंड घोटाले में खुद को बचाने के लिए धरने पर बैठी हैं ममता: प्रकाश जावड़ेकर

15
prakash

कोलकाता, 04 फरवरी (वेबवार्ता)। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बंगाल में चल रहे घमासान पर सोमवार को प्रदेश भाजपा मुख्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि ममता बनर्जी ने पूरे राज्य में अराजकता की स्थिति पैदा कर दी है। एक पुलिस अधिकारी को बचाने के लिए आज तक भारत के इतिहास में कोई भी मुख्यमंत्री धरना पर नहीं बैठा था।

दरअसल ममता बनर्जी कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार को बचाने के लिए नहीं बैठी हैं, बल्कि उनके अपने राज का खुलासा होने से रोकने के लिए यह नाटक कर रही हैं। जावड़ेकर ने कहा कि सारदा चिटफंड घोटाला 40 हजार करोड़ रुपये का है जिसके साक्ष्य लाल डायरी, पेन ड्राइव, लैपटॉप और मोबाइल में थे जिसे राजीव कुमार ने छुपाया है। सीबीआई उसी को लेना चाहती है। जैसे ही कागजात जांच एजेंसी के हाथ में आएंगे, तब उसमें ममता बनर्जी की संलिप्तता भी सामने आ जाएगी। इसीलिए साजिशन सीबीआई को काम नहीं करने दिया जा रहा है।

बिहार : सीमांचल एक्सप्रेस पटरी से उतरी, 7 मरे, जांच के आदेश

अधिकारियों को पुलिस के हाथों मारा-पीटा गया है। प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि ममता ने कल प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि मैं सभी सीआरपीएफ, सीआईएसएफ, बीएसएफ और पुलिस को कह रही हूं कि आप लोग एक रहिए और डटकर मुकाबला करिए। यह केंद्र सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ने का आह्वान है। बंगाल में आपातकाल की परिस्थिति है। जावड़ेकर ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस के 10 से अधिक नेताओं की गिरफ्तारी पहले हुई है जिसमें सांसद और मंत्री तक शामिल हैं, लेकिन ममता उनके लिए धरने पर नहीं बैठीं।

आखिर राजीव कुमार के लिए धरने पर क्यों बैठी हैं, यह बताएं। उन्होंने कहा कि सारे राज डायरी और पेन ड्राइव में हैं। तो ममता किसे बचा रही हैं। जावड़ेकर ने कहा कि कल कोलकाता में लोकतंत्र की हत्या हुई है। जब तृणमूल के बड़े नेता जेल गए तब ममता बनर्जी ने धरना नहीं दिया लेकिन पुलिस कमिश्नर के लिए वह धरने पर बैठी हैं। पुलिस कमिश्नर के पास ऐसा क्या है जिसे छुपाने के लिए ममता बनर्जी सड़क पर बैठी हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here